Andhere Mein Nikal Padta Hai,

Roz Taaron Ko Numaish Mein Khalal Padta Hai,

Chaand Paagal Hai Andhere Mein Nikal Padta Hai,

Roz Patthar Ki Himaayat Mein Gazal Likhte Hain,

Roz Sheeshon Se Koi Kaam Nikal Padata Hai.

रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है,

चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है,

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,

रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है।

Asfaltaen Unka Peechha Chhod Deti

Asfaltaye Insaan Ko Tod Deti Hain,

Jeevan Ki Rahon Ko Naya Mod Deti Hain,

#Jo Karte Hain, Jee-Jaan Se Prayas Poora,

Asfaltaen Unka Peechha Chhod Deti Hai.

असफलताए इंसान को तोड़ देती है,

जीवन की राहों को नया मोड़ देती है,

#जो करते हैं, जी-जान से प्रयास पूरा,

असफलताएं उनका पीछा छोड़ देती है।

Meri Raat Aksar Mujhe Sulaana Bhool

Mujhe Aagosh Mein Lekar Tere Kisse Sunati Hai

Meri Raat Aksar Mujhe Sulaana Bhool Jaati Hai.

Advertisement

मुझे आगोश में लेकर तेरे किस्से सुनती है

मेरी रात अक्सर मुझे सुलाना भूल जाती है।

Lakdi Ke Makano Mein Chiragon Ko

Lakdi Ke Makano Mein Chiragon Ko Na Rakhiye,

Apane Bhi Yahan Aag Bujhane Nahin Aate.

लकड़ी के मकानों में चिरागों को न रखिये,

अपने भी यहाँ आग बुझाने नहीं आते।

Kuchh Log Apne Hokar Bhi Apne Nahin Hote,

Kuchh Khoobasoorat Se Pal Kissa Ban Jaate Hain,

Jane Kab Zindagi Ka Hissa Ban Jaate Hain,

Kuchh Log Apne Hokar Bhi Apne Nahin Hote, Aur

Kuchh Begane Hokar Bhi Jeevan Ka Hissa Ban Jaate Hai.

कुछ खूबसूरत से पल किस्सा बन जाते हैं,

जाने कब जिंदगी का हिस्सा बन जाते हैं,

कुछ लोग अपने होकर भी अपने नहीं होते, और

कुछ बेगाने होकर भी जीवन का हिस्सा बन जाते है।

Na Baaki Hain Zamane Mere

Ab Na Main Hoon, Na Baaki Hain Zamane Mere,

Phir Bhi Mashahoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,

Zindagi Hai To Naye Zakhm Bhi Lag Jaenge,

Ab Bhi Baaki Hain Kai Dost Puraane Mere.

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे,

फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे,

ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे,

अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

Thaharti Nahin Zindagi Kabhi Kisi Ke Bina

Thaharti Nahin Zindagi Kabhi Kisi Ke Bina ,

Par Ye Gujarti Bhi Nahi Apno Ke Bina,

ठहरती नहीं ज़िन्दगी कभी किसी के बिना,

पर ये गुजरती भी नही अपनों के बिना।

Aane Se Zyada Tujhe Chhupkar Dekhna Achha Lagta Hai.

Na Jane Kya Masoomiyat Hai Tere Chehre Par…

Tere Samne Aane Se Zyada Tujhe Chhupkar Dekhna Achha Lagta Hai.

न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर…

तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है।

Tere Shahar Mein Aate Jaate.

Haath Khali Hain Tere Shahar Se Jaate Jaate,

Jaan Hoti To Meri Jaan Lutate Jaate,

Ab To Har Haath Ka Patthar Hamen Pahchanta Hai,

Umr Guzari Hai Tere Shahar Mein Aate Jaate.

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,

जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,

उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।

Badi Muskil Mein Hoon Kaise Izhaar Karoon,

Badi Muskil Mein Hoon Kaise Izhaar Karoon,

Tu To Khusaboo Hai Tujhe Kaise Giraftaar Karoon.

बड़ी मुस्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ,

तू तो खुसबू है तुझे कैसे गिरफ्तार करूँ।