Na Baaki Hain Zamane Mere

Ab Na Main Hoon, Na Baaki Hain Zamane Mere,

Phir Bhi Mashahoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,

Zindagi Hai To Naye Zakhm Bhi Lag Jaenge,

Ab Bhi Baaki Hain Kai Dost Puraane Mere.

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे,

फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे,

ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे,

अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।