Dost Samajhate Ho To Dosti Nibhate Rahna,

Dost Samajhate Ho To Dosti Nibhate Rahna,

Hame Bhi Yaad Karna Khud Bhi Yaad Aate Rahna,

Humari To Har Khushi Dosto Se Hi Hai,

Hum Khush Rahe Ya Na Aap Yu Hi Muskurate Rahna!

दोस्त समझते हो तो दोस्ती निभाते रहना,

हमें भी याद करना खुद भी याद आते रहना,

हमारी तो हर ख़ुशी दोस्तों से ही है,

हम खुश रहें या ना आप यूँ ही मुस्कुराते रहना।

Humare Dost Humse Bhi Achchhe Hain.

Duniyadari Mein Hum Thode Kachche Hain,

Par Dosti Ke Muamale Mein Sachche Hain,

Humari Sachayi Bas Iss Baat Par Kayam Hai,

Ki Humare Dost Humse Bhi Achchhe Hain.

दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं,

पर दोस्ती के मामले में सच्चे हैं,

हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है,

कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।

Log Kehte Hain Zamin Par Kisi Ko Khuda Nahi Milta,

Log Kehte Hain Zamin Par Kisi Ko Khuda Nahi Milta,

Shayad Unn Logon Ko Dost Koyi Tum Sa Nahi Milta.

लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी को खुदा नहीं मिलता,

शायद उन लोगों को दोस्त कोई तुम-सा नहीं मिलता।

Dost Aap Jaise Jab Mila Karte Hain.

Diye Toh Aandhi Mein Bhi Jala Karte Hain,

Gulaab Toh Kaanto Mein Bhi Khila Karte Hain,

Khush-Naseeb Bahut Hoti Hai Woh Shaam,

Dost Aap Jaise Jab Mila Karte Hain.

दिए तो आँधी में भी जला करते हैं,

गुलाब तो काँटो में भी खिला करते हैं,

खुशनसीब बहुत होती है वो शाम,

दोस्त आप जैसे जब मिला करते हैं।

Saath Agar Doge Toh Muskurayenge Jarur,

Saath Agar Doge Toh Muskurayenge Jarur,

Pyar Agar Dil Se Karoge Toh Nibhayenge Jarur,

Kitne Bhi Kante Kyu Na Ho Dosti Ki Raaho Mein,

Aawaz Agar Dil Se Doge To Aayenge Jarur.

साथ अगर दोगे तो मुस्कुराएंगे ज़रूर,

प्यार अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे ज़रूर,

कितने भी काँटे क्यों ना हों दोस्ती की राहों में,

आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएंगे ज़रूर।

Haqeekat Mohabbat Ki Judai Hoti Hai

Haqeekat Mohabbat Ki Judai Hoti Hai,

Kabhi-Kabhi Pyaar Mein Bewafai Hoti Hai,

Hamare Taraf Haath Badhakar To Dekho,

Dosti Mein Kitni Sachchai Hoti Hai.

हक़ीकत मोहब्बत की जुदाई होती है,

कभी-कभी प्यार में बेवफाई होती है,

हमारे तरफ हाथ बढ़ाकर तो देखो,