Agar Mohabbat Ki Hadd Nahin Koi

Agar Mohabbat Ki Hadd Nahin Koi,
Toh Dard Ka Hisaab Kyun Rakhoon.
अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,
तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं।

Betab se Rahte hai uski Yaad mai

बेताब से रहते हैं उसकी याद में अक्सर,
रात भर नहीं सोते हैं उसकी याद में अक्सर,
जिस्म में दर्द का बहाना सा बना कर,
हम टूट कर रोते हैं उसकी याद में अक्सर।

Har Sitam Sah kar- Hindi Dard Shayari

हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने,
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने|

Pahle Ishq Phir Dard – Dard Bhari Shayari

पहले इश्क़,
फिर दर्द,
फिर बेहद नफरत,
बड़ी तरकीब से तबाह…..
किया तुमने मुझको!!

Aashiq ka Funny Andaaz

हमसे मोहब्बत का दिखावा न किया कर …….
हमें मालुम है तेरी वफा की डिगरी फर्जी है ………..


Humse Mohabbat Ka dikhawa Na kiya kar !

Hame Pata Hai Teri wafa ki degree  farji hai !!