कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

नजर नजर से मिलेगी तो सर झुका लेगा,

नजर नजर से मिलेगी तो सर झुका लेगा,
वह बेवफा है मेरा इम्तिहान क्या लेगा,
उसे चिराग जलाने को मत कह देना,
वह नासमझ है कहीं उंगलियां जला लेगा।

उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद

उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद,
अब हम पर प्यार आया है दूर चले जाने के बाद,
क्या बताएं किस कदर बेवफ़ा है यह दुनिया,
यहाँ लोग भूल जाते हैं किसी को दफनाने के बाद

गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती

गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती,
सच्चे प्यार में कहीं तन्हाई नहीं होती,
मगर प्यार ज़रा संभल कर करना मेरे दोस्त,
प्यार के ज़ख्म की कोई दवा नहीं होती।

Wo To Apne Dard Ro-Ro Ke Sunate Rahe

Wo To Apne Dard Ro-Ro Ke Sunate Rahe,
Hamari Tanhaiyon Se Aankh Churate Rahe,
Aur Hamen Bewafa Ka Naam Mila Kyonki,
Ham Har Dard Muskura Kar Chhupate Rahe.

आज हम उनको बेवफा बताकर आए हैं

आज हम उनको बेवफा बताकर आए हैं,
उनके खतो को पानी में बहाकर आए हैं,
कोई निकाल न ले उन्हें पानी से..
इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए हैं।