ससुरजी आपकी बेटी में

जंवाई  : ससुरजी आपकी बेटी में

दिमाग नाम की कोई चीज है ही नहीं

.

.

.

ससुर : बेटा तुमने उसका हाथ माँगा था

दिमाग की कोई बात हुई ही नहीं थी

Ek Rishta Naya Reshmi Sa Buno

Ek Rishta Naya Reshmi Sa Buno,

Maine Tumko Chuna Tum Bhi Mujhko Chuno,

Zindagi Prem Ki Hai Kahani Jaise,

Tum Kaho Main Sunu Main Kahu Tum Suno.

एक रिश्ता नया रेश्मी सा बुनो,

मैंने तुमको चुना तुम भी मुझको चुनो,

ज़िन्दगी प्रेम की है कहानी जैसे,

तुम कहो मैं सुनु मैं कहु तुम सुनो।

Wo Allah Aur Wo Bhagwan Rehta Hai

Jahan Par Sach, Daya ,Samman Aur Iman Rehta Hai,

Wahi Jakar Wo Allah Aur Wo Bhagwan Rehta Hai,

Agar Tune Nikala Hai Kisi Ke Paw Ka Kata,

To Ye Tay Hai Tere Dil Mein Koi Insan Rehta Hai.

जहाँ पर सच, दया ,सम्मान और इमां रहता है,

वही जाकर वो अल्लाह और वो भगवन रहता है,

अगर तूने निकला है किसी के पॉ का कटा,

तो ये तय है तेरे दिल में कोई इंसान रहता है।

Shayad Chaand Taaron Se Akele Mein

Nazar Bhar Dekh Loon Usko Dua Din Raat Karti Thi,

Magar Zaahir Nahin Dil Ke Koi Jazbaat Karti Thi,

Yahi Tha Pyaar Shayad Chaand Taaron Se Akele Mein,

Vo Meri Baat Karta Tha Main Uski Baat Karti Thi.

नज़र भर देख लूँ उसको दुआ दिन रात करती थी,

मगर ज़ाहिर नहीं दिल के कोई जज़्बात करती थी,

यही था प्यार शायद चाँद तारों से अकेले में,

वो मेरी बात करता था मैं उसकी बात करती थी।

Zindgi Se Maut Se Yari Rakho

Ek Hi Nadi Ke Hain Ye Do Kinare Dosto,

Dostana Zindgi Se Maut Se Yari Rakho.

एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,

दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।

Papa ye marad kon hota hai ..

अचानक चिंटू ने अपने पिता से पूछा : पापा ये मर्द कौन होता है,

तो पिता बोला : जो पुरे घर पर अपनी हकूमत चलाये वो मर्द,

चिंटू बोला : पापा बड़ा हो कर मैं भी मम्मी की तरह मर्द बनूँगा

Duniya ke anusaar khud ko bdal do .. nahi to

“दुनियाँ में दो तरह के लोग होते है एक वो जो दुनियाँ के अनुसार खुद को बदल लेते है और दूसरे वो जो खुद के अनुसार दुनियाँ को बदल देते है।”

Apne Zaroor Badal Jaate Hain Waqt Ke Saath

Apno Ke Saath Waqt Ka Pata Nahin Chalta,

Par Apno Ka Pata Chalta Hai Waqt Ke Saath,

Waqt Nahin Badalta Apno Ke Saath, Par

Apne Zaroor Badal Jaate Hain Waqt Ke Saath.

अपनों के साथ वक़्त का पता नहीं चलता,

पर अपनों का पता चलता है वक़्त के साथ,

वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ, पर

अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के साथ।