bebwaafai uski dil se .. Aag lga kr aya hu

बेवफाई उसकी दिल से मिटा के आया हूँ,

ख़त भी उसके पानी में बहा के आया हूँ,

कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को,

इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ।

नादान थे हम, गलती हमसे हुई क्योंकि

बेवफा से दिल लगा लिया नादान थे हम,

गलती हमसे हुई क्योंकि इंसान थे हम,

आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती है,

कुछ समय पहले उनकी जान थे हम।

आज सजधज के कठे – आत्महत्या करणे जा

धणी- आज सजधज के कठे जा री से?

लुगाई- आत्महत्या करणे जा री सुं

धणी- तो इत्तो मेकअप क्यूँ करयो हैलुगाई- काल अख़बार म्हें म्हारो फोटू भी तो छपसी